आगरा में ओ.डी.ओ.पी. समिट का आयोजन
 

सत्यदेव पचैरी ने प्रदर्शनी का किया उद्घाटन

समिट मंे 15 जनपदों के 67146 लाभार्थियों में 4531.36 करोड़ का ऋण वितरित

 लखनऊ,  28 फरवरी। ’एक जनपद एक उत्पाद’’ (ओ.डी.ओ.पी.) योजनान्तर्गत आज आगरा ट्रेड सेन्टर, ग्राम सिंगना, एन0एच0-2, आगरा में ओ.डी.ओ.पी समिट का आयोजन किया गया। सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन विभाग, खादी एवं ग्रामोद्योग, रेशम उद्योग, हथकरघा एवं वस्त्र उद्योग मंत्री  सत्यदेव पचैरी जी ने फीता काटकर प्रदर्शनी का उद्घाटन किया व प्रत्येक स्टाॅल का भ्रमण कर हस्तशिल्पियों से उनके उत्पाद के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करते हुये उनका उत्साहवद्र्वन किया।  कार्यक्रम के मुख्य आकर्षण ओ.डी.ओ.पी उत्पादों की प्रदर्शनी व लाईव डेमो, ऋण वितरण मैगा कैम्प, टूलकिट वितरण, क्रेता विक्रता सम्मेलन तथा तकनीकी सत्र आदि रहे।

समिट में श्री पचैरी द्वारा विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजनान्तर्गत कुल-242 लाभान्वितों को ट्रेड-नाई, सुनार, हलवाई, मोची, राजमिस्त्री, कुम्हार, टेडीवियर आदि टूलकिट के साथ ही प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना तथा प्रधानमंत्री मुद्रा योजनान्तर्गत ऋण कुल-260 चेकों का वितरण किया गया। समस्त 15 जनपदों में ओ.डी.ओ.पी योजनान्तर्गत 8301 लाभार्थियों को रू0. 690.66 करोड़ तथा नाॅन ओ.डी.ओ.पी क्षेत्र में 58845 लाभार्थियों को रू0. 3840.70 करोड़ का ऋण वितरित किया गया।

लघु उद्योग मंत्री ने समिट में उपस्थित प्रतिभागियों को विभागीय योजनाओं में विगत वर्षों में की गई वृद्धियों के सम्बन्ध में अवगत कराते हुये उद्यमियों/हस्तशिल्पियोें को आश्वासन दिया कि उद्योग विभाग उनके उद्यमों के विकास हेतु पूर्णरूप से कटिवद्ध है। विभाग में संचालित नई योजनाओं जैसे विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना का जिक्र करते हुये कहा कि इस योजनान्तर्गत पारम्परिक दस्तकारों को लाभ पहुॅचाने हेतु उनको नवीन तकनीकी सम्बन्धी प्रशिक्षण प्रदान कराते हुये उनके कार्य से सम्बन्धित आधुनिक टूलकिटों को वितरण कराया जा रहा है। जिससे पारम्परिक दस्तकारों को उनकी कार्यक्षमता में मद्द प्राप्त हो रही है तथा अवगत कराया गया, कि विभाग द्वारा बी.एस.ई., एन.एस.ई., क्यू.सी.आई., अमेजोन आदि के साथ एम.ओ.यू. कराये जाने हेतु प्रथम बार प्रयास किया गया है।  समिट में 15 जनपदों के 91 प्रतिभागियों द्वारा अपने ओ.डी.ओ.पी प्रोडक्ट्स के प्रदर्शन तथा लाईव डेमो किया गया।  सचिव, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन विभाग, उ.प्र. तथा आयुक्त एवं निदेशक उद्योग, उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन निदेशालय, उ.प्र. कानपुर द्वारा भी समिट में प्रतिभाग करने वाले उद्यमियों/हस्तशिल्पियों को विभाग में संचालित विभिन्न प्रकार की योजनाओं की जानकारी दी गई।