अतिशीघ्र एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा
बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे परियोजना के क्रियान्वयन के लिये यूपीडा द्वारा भूमि खरीद की प्रक्रिया तेजी से जारी

 

 

निर्माणकर्ताओं के चयन की प्रक्रिया प्रारम्भ, ई-टेण्डरिंग के माध्यम से निविदाएं आमंत्रित

 

लखनऊ, 21 फरवरी। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे परियोजना के क्रियान्वयन के लिये यूपीडा द्वारा भूमि खरीद की प्रक्रिया तेजी से जारी है। परियोजना के लिये संरेखण के अंतर्गत प्रस्तावित कुल क्षेत्रफल 3641.5912 हेक्टेयर के सापेक्ष अब तक 07 जनपदों में 1011.0448 हेक्टेयर भूमि की खरीद की जा चुकी है, जो कि कुल प्रस्तावित क्षेत्रफल का 27.76 प्रतिशत है। यूपीडा द्वारा अगले दो माह के अन्दर परियोजना के लिए 90 प्रतिशत भूमि के क्रय का लक्ष्य रखा गया है। 

यह जानकारी आज यहां देते हुए राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि जनपद चित्रकूट में 56.8279 हे0, बांदा में 203.0780 हे0, हमीरपुर में 200.3643 हे0, महोबा में 163.2080 हे0, जालौन में 285.4078 हे0, औरैया में 40.4750 हे0 तथा जनपद इटावा में 61.8638 हे0 भूमि अब तक क्रय की गई है। जनपद औरैया में कम भूमि खरीद होने पर यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी श्री अवनीश कुमार अवस्थी द्वारा जिला प्रशासन को इस कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए गए हैं।

प्रवक्ता ने बताया कि परियोजना के लिए भूमि क्रय की कार्यवाही को सुगमतापूर्वक सम्पन्न करने के लिए निबन्धन विभाग द्वारा सम्बन्धित उपनिबन्धक कार्यालयों को अवकाश के दिनों एवं कार्यावधि के उपरान्त अतिरिक्त समय के लिए भी खोले जाने के निर्देश निर्गत किए गए हैं। 

प्रवक्ता ने बताया कि परियोजना की डी0पी0आर0 तैयार करते हुए विभिन्न पैकेजों के निर्माण हेतु निर्माणकर्ताओं के चयन की प्रक्रिया प्रारम्भ हो गई है। ई-टेण्डरिंग के माध्यम से निविदाएं आमंत्रित की गई हैं। ई0जी0आई0एस0 इण्डिया कंसल्टेंसी लि0 को परियोजना का परामर्शी नामित किया गया है। अतिशीघ्र इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। 

ज्ञातव्य है कि 06 पैकेजों में इंजीनियरिंग, प्रोक्योरमेण्ट एण्ड कंस्ट्रक्षन (ई0पी0सी0) पद्धति पर क्रियान्वित की जाने वाली ‘बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे’ परियोजना का संरेखण जनपद चित्रकूट में भरतकूप के निकट, झांसी-मीरजापुर राष्ट्रीय राजमार्ग (एन0एच0-35 के चैनेज 266.600) से प्रारम्भ होकर जनपद बांदा, हमीरपुर, महोबा, जालौन, औरैया एवं इटावा होते हुए जनपद इटावा की तहसील ताखा के ग्राम कुदरैल के समीप, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के चैनेज 133.778 पर समाप्त होगा। परियोजना के संरेखण में आने वाले कुल 182 ग्रामों से गुजरने वाले ‘बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे’ की कुल लम्बाई 296.264 कि0मी0 और प्रभावित क्षेत्रफल 3641.6269 हेक्टेयर आकलित किया गया है। एक्सप्रेस-वे परियोजना की कुल लागत 14,716.26 करोड़ रुपए आकलित की गयी है।

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे के निर्माण से बुन्देलखण्ड क्षेत्र के जनपदों के लिए प्रदेष की राजधानी से ‘आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे’ एवं यमुना एक्सप्रेस-वे के माध्यम से देष की राजधानी तक त्वरित गति की सुगम यातायात सुविधा उपलब्ध होगी। यह एक्सप्रेस-वे विभिन्न उद्योगों की स्थापना हेतु एक उत्प्रेरक के रूप में सहायक होगा। एक्सप्रेस-वे के निकट इण्डस्ट्रियल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट, षिक्षण संस्थान, मेडिकल संस्थान आदि की स्थापना हेतु भी अवसर उपलब्ध होंगे। एक्सप्रेस-वे के निर्माण में बुन्देलखण्ड क्षेत्र में पर्यटन विकास को बल मिलेगा एवं विकास से वंचित इस क्षेत्र का सर्वांगीण एवं बहुमुखी विकास सम्भव हो सकेगा।