चोरी गया रुपया नही मिला तो आत्मदाह कर लूंगा :विधायक कल्पनाथ पासवान

विधायक कल्पनाथ पासवान दस लाख रुपया चोरी की रिपोर्ट डेढ़ महीने बाद भी न लिखे जाने पर आश्चर्य व्यक्त किया। वह आज विधानसभा में अपनी इस बात को अध्यक्ष के समक्ष रखते ही रोने लगे।...


लखनऊ । पुलिस के तमाम दावा के बाद भी प्रदेश में चोरी की बढ़ती वारदात सिरदर्द बनती जा रहा है। पुलिस इसको रोकने में फेल है। इतना ही नहीं पुलिस तो चोरी की रिपोर्ट भी नहीं दर्ज करती है। पुलिस के चोरी की रिपोर्ट न लिखे जाने पर आज विधानसभा में समाजवादी पार्टी के विधायक कल्पनाथ पासवान सदन में फूट-फूटकर रोने लगे। इस मौके पर उन्होंने कहा कि अगर 15 दिन में चोरी गया मेरा दस लाख रुपया नहीं मिला तो मैं आत्मदाह कर लूंगा। विधायक कल्पनाथ पासवान दस लाख रुपया चोरी की रिपोर्ट डेढ़ महीने बाद भी न लिखे जाने पर आश्चर्य व्यक्त किया। वह आज विधानसभा में अपनी इस बात को अध्यक्ष के समक्ष रखते ही रोने लगे। समाजवादी पार्टी से विधायक कल्पनाथ पासवान आज विधानसभा में खूब देर तक रोते रहे। उन्होंने कहा कि उनका दस लाख रुपया चोरी हो गया है, लेकिन पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की। उन्होंने सवाल उठाया कि जब एक विधायक के साथ पुलिस का ऐसा बर्ताव है तो फिर आम आदमी के साथ यूपी पुलिस क्या करती होगी। विधायक कल्पनाथ पासवान ने कहा कि एक महीने से ज्यादा हो गया वह थाना के साथ ही एसपी के चक्कर काट-काटकर थक गए लेकिन आज तक पुलिस ने कोई कार्रवाई तो दूर उनकी एफआईआर तक दर्ज नहीं की। वह आज विधानसभा में पुलिस की कारगुजारी बताते हुए फफक पड़े। इसी दौरान उनके आसपास मौजूद दूसरे विधायकों ने उन्हें सांत्वना दी और उनके आंसू पोछे।


विधानसभा में आज दिन में बजट सत्र के दौरान उस समय अजीब स्थिति बन गई, जब विधायक फूट-फूटकर रोने लगे। समाजवादी पार्टी से आजमगढ़ के मेहनगर विधानसभा सीट से विधायक कल्पनाथ पासवान इस बात से दुखी थे कि प्रदेश की पुलिस किसी की नहीं सुन रही। हाथ जोड़कर रोते हुए विधायक बोले कि उनके दस लाख रुपये चोरी हो गए, लेकिन पुलिस ने उनकी एफआईआर तक दर्ज नहीं की। विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित से विधायक कल्पनाथ पासवान ने कहा कि न्याय दिलाएं, नहीं तो मर जाऊंगा। विधायक ने रोते हुए कहा कि मेरे साथ न्याय कीजिए। मुझे अगर न्याय नहीं मिला तो मैं निश्चित रूप से मर जाऊंगा...। आज मैं रो रहा हूं सदन में, कल पूरा सदन रोएगा। मान्यवर न्याय करिए। मैं पूरे सदन से विनती हाथ जोड़कर विनती कर रहा हूं। मैं कहा जाऊं। मैं पूरे सदन से कह रहा हूं... मान्यवर मैं जिंदा नहीं रहूंगा। मान्यवर मैं गरीब किसान हूं। मेरा रुपया दिलवा दीजिए, वर्ना मैं मर जाऊंगा मान्यवर।


घर बनवाने के लिए निकाली थी रकम


विधायक कल्पनाथ ने बताया कि उन्हें अपना घर बनवाना था। 7 जनवरी को वह लखनऊ गए और यहां अपने बैंक खाते से दस लाख रुपये निकाले। यह रुपये लेकर वह बस से आजमगढ़ पहुंचे। यहां रोडवेज बस से उतरने के बाद वह शारदा चौक पर स्थित एक होटल में चाय पीने पहुंचे। यहां वह अपने समर्थकों के साथ चाय पी रहे थे। इस दौरान उन्होंने रुपयों से भरा अपना सूटकेस वहीं रख लिया।


पुलिस से लेकर एसपी तक से लगाई गुहार


उन्होंने बताया कि जब उन्होंने होटल से निकलते समय बैग उठाया तो उन्हें बैग कुछ हल्का लगा। विधायक सूटकेस खोला तो उसमें से रुपये गायब थे। उसके बाद होटल में खलबली मच गई। उन्होंने पुलिस में शिकायत की लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया। विधायक का आरोप है कि जब पुलिस ने उनकी नहीं सुनी तो वह एसपी से शिकायत करने पहुंचे। एसपी के कहने के बाद एक टीम ने कुछ लोगों से पूछताछ की लेकिन उनके दस लाख रुपये चोरी की एफआईआर दर्ज नहीं की गई।