इमरान ने अलापा पाकिस्तान का पुराना राग, हम खुद आतंकवाद से परेशान हैं

इमरान खान का धमकी भरा अंदाज, भारत ने हमला किया तो जवाब देंगे


इमरान ने पुरानी बात दोहराते हुए कहा कि हम खुद आतंकवाद से परेशान हैं।


पाकिस्तान में अब तक आतंकवाद के कारण 70 हजार लोगों की मौत हो चुकी है।


इमरान ने कहा कि पुलवामा हमले का आरोप भारत पाकिस्तान पर लगा रहा है, अगर भारत के पास सबूत हों तो वो पाकिस्तान को मुहैया कराए, अगर ऐसा होता है तो मैं खुद इस पर एक्शन लूंगा। इमरान ने कहा कि जब भी हिंदुस्तान से बातचीत की शुरुआत होती है, वह दहशतगर्दी खत्म करने के लिए कहता है। इमरान खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस मसले पर अपना बयान जारी करते हुए कहा है कि अगर भारत ने हम पर हमला किया तो हम जवाबी कार्रवाई करेंगे. वहीं इमरान ने यह भी कहा है कि अगर पुलवामा हमले पर भारत सबूत देता है तो हम जांच की गारंटी देते हैं। इमरान ने कहा - पाकिस्तान हमले का इल्जाम लगाया जा रहा है. लेकिन आखिर इससे पाकिस्तान को क्या फायदा होने वाला है। उन्होंने कहा कि हम भारत से बातचीत को तैयार हैं. इस हमले के लिए पाकिस्तान हर जांच के लिए तैयार है। नए पाक में दहशतगर्दी की जगह नहीं है।


हमले कराने की बात सोचना भी मूर्खता’, इमरान खान ने कहा कहा कि सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस की यात्रा को दौरान पाकिस्तान ऐसा हमला कराएगा ये सोचना भी मूर्खता है. पाकिस्तान को ये हमला कराने से क्या फायदा है? पाकिस्तान स्थिरता की तरफ जा रहा है तो हम ऐसा क्यों करेंगे। इमरान ने कहा- ये नया पाकिस्तान है, ये हमारे हित में है कि हमारी जमीन से ना ही कोई दहशतगर्दी करे और ना ही हमारे यहां दहशतगर्दी करे. भारत सरकार हमें सबूत दे, पाकिस्तान इस घटना की पूरी तहकीकत कराने को तैयार है। इमरान खान ने आगे कहा- हम भारत से बातचीत के लिए दहशतगर्दी पर चर्चा करने के लिए भी तैयार हैं. पाकिस्तान को आतंकवाद से सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है. पाकिस्तान हर मुद्दे पर भारत से बातचीत के लिए तैयार है. भारत में चुनाव का साल है, इसलिए हमले की बात हो रही है। इमरान ने कहा कि सेना के जरिए कश्मीर का मुद्दा हल नहीं होगा। हिंदुस्तान में मीडिया, राजनेता सब कह रहे हैं कि पाकिस्तान पर हमला करना चाहिए। भारत में चुनाव का साल है, इसलिए पाकिस्तान पर हमला करने की बात हो रही है। अगर पाकिस्तान पर हमला किया गया तो पाकिस्तान सिर्फ सोचेगा नहीं बल्कि जवाबी कार्रवाई करेगा। जंग शुरू करना आसान है, जंग किधर जाएगी ये कहना मुश्किल होगा।