जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ के काफिले पर बम और गोलियों से हमला, 30 जवान शहीद, जैश ने ली जिम्मेदारी

लखनऊ ।  जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में CRPF के काफिले पर हुआ आतंकी हमला अत्यंत कायराना एवं निन्दनीय है। हादसे में शहीद हुए जवानों के प्रति गहरी शोक संवेदना व्यक्त करते हैं। इस दुःख की घड़ी में भारत को एकता दिखाने की आवश्यकता है: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ


जम्मू-कश्मीर।  जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने एक बार फिर सुरक्षाबलों को निशाना बनाया है। पुलवामा में अवंतीपोरा के गोरीपोरा इलाके में सुरक्षाबलों के काफिले पर जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन ने हमला किया. इस दौरान आईईडी धमाका हुआ। इस धमाके में 30 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए और 45 जवान गंभीर रूप से घायल हैं। घायलों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इसके साथ ही इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि काफिले में सीआपीएफ की करीब दर्जनभर गाड़ियों में 2500 से अधिक जवान सवार थे। आतंकियों ने सुरक्षाबलों की एक गाड़ी को निशाना बनाया है। आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है। सीआरपीएफ का काफिल जम्मू से श्रीनगर जा रहा था। सीआरपीएफ के सूत्रों का कहना है कि सड़क पर एक चार पहिया वाहन में आईडी लगाया गया था। कार हाईवे पर खड़ी थी। जैसे ही सुरक्षाबलों का काफिला कार के पास से गुजरा, उसमें ब्लास्ट हो गया. इस दौरान काफिले पर फायरिंग की भी खबर है। इस हमले में 20 सीआरपीएफ जवानों की मौत गई, जबकि 45 गंभीर रूप से घायल हो गए हैं।


आतंकी आदिल अहमद उर्फ वकास ने विस्फोटक से भरी उस गाड़ी को उड़ाया है। जैश ने कहा है कि आदिल पुलवामा के गुंडीबाग इलाके का ही रहने वाला था। धमाके से पहले जवानों की गाड़ी पर फायरिंग भी की गई है। बताया जा रहा कि ये काफिला जम्मू से कश्मीर की ओर जा रहा था। आतंकियों ने जिस तरह से ये हमला किया है, इस तरीके का इस्तेमाल आम तौर पर अफगानिस्तान और पाकिस्तान में सुरक्षाबलों को निशाना बनाने के लिए किया जाता है। लेकिन काफी समय बाद आतंकी कश्मीर में इतना बड़ा हमला करने में कामयाब हो गए। इससे पहले 18 सितंबर 2016 को आतंकियों ने उरी में बड़ा हमला किया था, जिसमें 19 जवान शहीद हुए थे।


इस काफिले में 2500 जवान शामिल थे। घटना के कई घंटों बाद अब पीएम मोदी ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हमला घिनौना है। मैं इसकी कड़ी निंदा करता हूं। उन्होंने कहा कि बहादुर जवानों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा। पीएम मोदी ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से भी बात की है। पीएम मोदी ने कहा कि शहीदों के परिवारों के साथ पूरा देश है। बता दें कि इससे पहले घटना की निंदा करते हुए जनरल वीके सिंह ने ट्वीट किया कि- एक सिपाही और भारतीय नागरिक होने के नाते ऐसे कायराना हमले से मेरा खून खौलता है। जवानों के खून के एक-एक बूंद का बदला लिया जाएगा।


गरजा भारत: शहीदों के खून की एक-एक बूंद का बदला लेंगे


जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार दोपहर बड़ा आतंकी हमला हुआ है। इस हमले में सुरक्षाबल के 30 से अधिक जवान शहीद हुए हैं। हमले के बाद राजनीतिक दलों की प्रतिक्रिया आनी भी शुरू हो गई है। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और पीडीपी की प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने हमले की निंदा की है। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने इस हमले के बाद मोदी सरकार पर निशाना साधा है।


कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर इस हमले की निंदा की है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी डीजीसीआरपीएफ आरआर भटनागर से पुलवामा हमले के बाद बात की। केंद्रीय मंत्री और पूर्व सेनाध्यक्ष वीके सिंह ने कहा है कि शहीदों के खून की एक-एक बूंद का बदला लेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को पुलवामा हमले के बाद ट्वीट कर निंदा की। राहुल गांधी ने कहा कि इस हमले से वह काफी दुखी हैं। शहीदों के परिवार के प्रति वह संवेदना व्यक्त करते हैं। उमर अब्दुल्ला ने हमले के बाद ट्वीट किया कि इस हमले की जिम्मेदारी जैश-ए-मोहम्मद ने ली है, ये एक फिदायीन हमला है। उन्होंने कहा कि घाटी में एक बार फिर 2004-05 जैसा माहौल होता जा रहा है।


 


जवानों के खून के एक-एक बूंद का बदला लिया जाएगा


बता दें कि इससे पहले घटना की निंदा करते हुए जनरल वीके सिंह ने ट्वीट किया कि- एक सिपाही और भारतीय नागरिक होने के नाते ऐसे कायराना हमले से मेरा खून खौलता है। जवानों के खून के एक-एक बूंद का बदला लिया जाएगा। वहीं जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नैशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया कि घाटी से बेहद भयानक खबर आ रही है। एक आईडी ब्लास्ट में कई सीआरपीएफ जवानों के मारे जाने की खबर है। मैं इस हमले की कड़ी से कड़ी निंदा करता हूं और घायलों के लिए प्रार्थना करता हूं। शोकाकुल परिवार के प्रति सहानभूति प्रकट करता हूं। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा कि जैश ने इस फिदायीन हमले की जिम्मेदारी ली है। यह 2004-2005 के आतंक के दिनों की याद दिलाते हैं। पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने भी घटना की निंदा करते हुए ट्वीट किया है। उनहोंने लिखा कि अवंतिपुरा से दिल दहलाने वाली घटना सामने आ रही है। हमारे जवान शहीद हुए हैं और कई गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। ऐसे वीभत्स हमले की निंदा करने के लिए शब्द नहीं मिल रहे हैं। आखिर कितनी जानें लेकर यह पागलपन खत्म होगा।  कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए बृहस्पतिवार को हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के जवानों की शहादत पर दुख जताया है। गांधी ने ट्वीट कर कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए कायराना हमले से बहुत दुखी हूं। हमारे शहीद जवानों के परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं। उन्होंने कहा कि मैं घायल हुए जवानों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं। कांग्रेस पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा- हम पुलवामा में कायराना आतंकी हमले की निंदा करते हैं। सर्वोच्च बलिदान देने वाले अपने 18 बहादुर जवानों को हमारी श्रद्धांजलि। हम उनके परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट करते हैं। उन्होंने आरोप लगाया, 'उरी, पठानकोट, पुलवामा। मोदी सरकार द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता किया जाना लगातार जारी है।


वहीं  लखनऊ प्रेस कांफ्रेंस करने आईं प्रियंका गांधी पुलवामा हादसे पर शोक प्रकट करके वापस चली गईं। 2 मिंनट का मौन रखा । पूर्व केंद्रीय मंत्री राम लाल राही और भाजपा विधायक अवतार सिंह भड़ाना को पार्टी में शामिल कराया ।