कांग्रेस का नया दांव, शिवपाल यादव की पार्टी से कर सकती है गठबंधन

लखनऊ ।  लोकसभा चुनावों को देखते हुए पार्टियों ने एड़ी से चोटी का जोर लगाना शुरू कर दिया है। यूपी में चल रही राजनीतिक गहमागहमी के बीच एक बड़ी खबर निकल कर सामने आई है।  कहा जा रहा है कि कांग्रेस शिवपाल यादव की पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन कर सकती है. अगर ऐसा हुआ तो समाजवादी पार्टी को नुकसान झेलना पड़ सकता है. इसका असर बाकी विपक्ष पर भी पड़ेगा। कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा इन दिनों यूपी के दौरे पर हैं।  कांग्रेस संगठन के जमीनी हालात का जायजा लेने के लिये लगातार बैठकें कर रहीं हैं। आज प्रियंका के यूपी दौरे का चौथा दिन है।  आज वो प्रेस कांफ्रेस भी कर सकती हैं।  प्रियंका की प्रेस कांफ्रेस में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन का एलान हो सकता है. हालांकि दोनों पार्टियों की तरफ से अभी तक कोई आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है। बता दें कि शिवपाल सिंह यादव पहले भी कह चुके हैं कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस से गठबंधन करने के लिए तैयार हैं. शिवपाल यादव ने कहा था कि कांग्रेस से उनकी बात नहीं हुई, लेकिन अगर कांग्रेस हमसे संपर्क करेगी तो हम गठबंधन के लिए तैयार हैं. यह खबर ऐसे समय सामने आई है जब कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश की सभी 80 लोकसभा सीटों से लड़ने का एलान किया है।  इससे पहले कांग्रेस से गठबंधन की सम्भावना के सवाल पर शिवपाल ने कहा था कि हमें यह ध्यान रखना चाहिये कि कांग्रेस एक राष्ट्रीय पार्टी है और वह बीजेपी को रोककर केन्द्र में सरकार बना सकती है।  उन्होंने कहा था कि अगर सपा, बसपा और कांग्रेस बीजेपी को रोकना चाहती हैं और हमारी पार्टी को सम्मानजनक संख्या में सीटें देती हैं तो हम निश्चित रूप से गठबंधन में शामिल होंगे. पर ऐसा हो नहीं पाया। 


शिवपाल ने  80 सीटों पर प्रत्याशी उतारने का एलान किया है
समाजवादी पार्टी (सपा) में उपेक्षा से नाराज होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया (प्रसपा) बनाने वाले शिवपाल सिंह यादव ने दावा किया है कि उनकी पार्टी लोकसभा चुनाव में किंगमेकर साबित होगी।  कांग्रेस ने यूपी की सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ने का एलान किया है. कांग्रेस के उत्तर प्रदेश इकाई के प्रभारी गुलाम नबी आजाद और प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने कहा था कि कांग्रेस यूपी और देश का चुनाव राहुल गांधी के नेतृत्व में पूरी शक्ति के साथ अपनी विचारधारा को आगे रखते हुए डटकर लड़ेगी और बीजेपी को हराएगी. उन्होंने कहा था कि उनकी पार्टी की तैयारी पूरी है. कोई कांग्रेस कार्यकर्ता गठबंधन से निराश नहीं है.


38-38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी सपा-बसपा
समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके 80 लोकसभा सीटों वाले उत्तर प्रदेश में 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ने का एलान किया था. कांग्रेस के लिये अमेठी और रायबरेली की सीटें छोड़ी गई हैं, जबकि दो सीटें छोटे दलों के लिये आरक्षित की गई हैं।  माना जा रहा है कि दो सीटें निषाद पार्टी और पीस पार्टी के लिए छोड़ी गई हैं।  निषाद पार्टी का निषाद बिरादरी में प्रभुत्व माना जाता है वहीं पीस पार्टी का पूर्वांचल की मुस्लिम बिरादरी में असर माना जाता है।