प्रमुख सचिव ने मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को दिये निर्देश
लखनऊ,  21 फरवरी। उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य प्रशान्त त्रिवेदी ने मुख्य चिकित्सा अधिकारियों एवं मुख्य चिकित्सा अधीक्षकों को निर्देश दिये कि नवनिर्मित 100 शैय्यायुक्त मातृ एवं शिुश चिकित्सालयों को पूर्णतया क्रियाशील कराने हेतु आवश्यक उपकरणों एवं मानव संसाधन की उपलब्धता 26 फरवरी, 2019 तक करा ली जाये। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारियों को सम्बंधित नव निर्मित मातृ एवं शिशु चिकित्सालय का निरीक्षण कर फोटोग्राफ्स सहित रिपोर्ट कल तक शासन को उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिये।श्री त्रिवेदी आज योजना भवन में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये मुख्य चिकित्सा अधिकारियों एवं मुख्य चिकित्सा अधीक्षकों को निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता को बेहतर चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराने हेतु प्रदेश सरकार निरन्तर प्रयासरत है। श्री त्रिवेदी ने कहा कि इन चिकित्सालयों के क्रियाशील होने से जनता को बेहतर चिकित्सा सुविधा और अधिक आसानी से मिल सकेगी। उन्होंने कहा कि नवनिर्मित चिकित्सालयों में सुचारू बिजली आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए शीघ्र ही जनरेटर भी उपलब्ध करा दिये जायेंगे। वीडियो कान्फ्रेंसिंग के दौरान मिशन निदेशक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन पंकज कुमार, प्रबन्ध निदेशक मेडिकल सप्लाईज कारपोरेशन  श्रुति सिंह, निदेशक चिकित्सा उपचार डा. सविता भट्ट एवं वरिष्ठ सलाहकार राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, डा. विजय लक्ष्मी सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे।