सहारनपुर में 10 पुलिस कर्मी निलम्बित
 

अब तक छापेमारी करके 297 अभियोग दर्ज 

9269.7 ब0ली0 अवैध मदिरा तथा 47700 कि0ग्रा0 लहन बरामद

175 व्यक्तियों को गिरफ्तार करके जेल भेजा गया

जनपद सहारनपुर में आबकारी अधिनियम  की धारा-60 ए के तहत तीन अभियोग पंजीकृत

 

लखनऊ: 09 फरवरी, ।    अवैध शराब के कारोबार में लिप्त तत्वों के विरुद्ध सघन अभियान चलाने के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के निर्देशों के क्रम में पूरे प्रदेश में कार्यवाही की जा रही है। अब तक छापेमारी करके 297 अभियोग दर्ज किए गए हैं, जिसमें 9269.7 ब0ली0 अवैध मदिरा तथा 47700 कि0ग्रा0 लहन बरामद की गई है। इसके साथ ही, 175 व्यक्तियों को गिरफ्तार करके जेल भेजा गया है। 

यह जानकारी आज यहां देते हुए राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि जोन स्तर पर संयुक्त आबकारी आयुक्त जोन्स तथा प्रभार स्तर पर उप आबकारी आयुक्त, प्रभार को इस प्रवर्तन अभियान का नेतृत्व करने हेतु निर्देश दिए गए हैं। उनसे अपेक्षा की गयी है कि अवैध स्रोतों को शत-प्रतिशत समूल नष्ट कर दिया जाए। प्रवर्तन अभियान को किसी भी स्थिति में कनिष्ठ अधिकारियों के ऊपर नहीं छोड़ा जाना चाहिए। इस प्रवर्तन अभियान में किसी भी कार्मिक को अवकाश देय नहीं होगा। प्रवक्ता ने बताया कि जनपद सहारनपुर में जहरीली शराब पीने से लोगों की मृत्यु की घटना के क्रम में थाना नागल, थाना देवबन्द तथा थाना गागलहेडी में आबकारी अधिनियम की धारा-60 ए के तहत तीन अभियोग पंजीकृत कराए गए हैं। इनके अंतर्गत प्रभावी विवेचनात्मक/कार्यवाही करायी जा रही है। उक्त घटना के पश्चात अवैध शराब के कृत्य में लिप्त 39 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है तथा गिरफ्तार व्यक्तियों से अवैध शराब में लिप्त व्यक्तियों की जानकारी की जा रही है। प्रवक्ता ने कहा कि जानकारी होने के उपरान्त नियमानुसार प्रभावी वैधानिक कार्यवाही किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। अवैध शराब के सम्बन्ध में चलाए गए अभियान के दौरान कुल 35 अभियोग पंजीकृत किए गए हैं। इस अभियान में अवैध शराब की 06 भट्ठियां, 3600 ली0 लहन नष्ट, 250 ली0 कच्ची शराब व 60 ली0 अंग्रेजी शराब बरामद की गयी है। प्रवक्ता ने बताया कि इसके आधार पर विभिन्न स्थानों पर कुल 35 अभियोग पंजीकृत कर विवेचना की जा रही है। पर्यवेक्षण अधिकारी को अवैध शराब में लिप्त अभियुक्तों की तत्परता से गिरफ्तारी कराकर अभियोग की विवेचना का अपने निकट एवं सुदृढ़ पर्यवेक्षण में सफल विधिक निस्तारण कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं। जनपद सहारनपुर में इस अभियान के दौरान कार्यवाही हेतु 37 टीमें लगायी गयी हैं। 

प्रवक्ता ने कहा कि पुलिस महानिरीक्षक सहारनपुर परिक्षेत्र, मण्डलायुक्त सहारनपुर, जिलाधिकारी सहारनपुर तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा घटना से प्रभावित गांवों के प्रधानों की बैठक कर कृत कार्यवाही से उन्हें अवगत कराया गया तथा उनके माध्यम से प्रभावी अभिसूचना प्राप्त किए जाने, प्रभावी निरोधात्मक कार्यवाही किए जाने तथा इस प्रकार की घटना पर अंकुश लगाने के लिए ग्रामवासियों से सहायता प्राप्त किए जाने की कार्यवाही भी की गयी है। इसके अलावा, उत्तराखण्ड के सीमावर्ती क्षेत्रों में घटना के सम्बन्ध में जागरूकता लाने और भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के उद्देश्य से जनसामान्य को मुनादी एवं प्रचार-प्रसार के माध्यम से अवगत कराया जा रहा है।  प्रवक्ता ने कहा कि सहारनपुर जनपद में पुलिस अधीक्षक देहात क्षेत्र के नेतृत्व में विशेष अन्वेषण दल का गठन किया गया है, जो इस सम्बन्ध में प्रभावी अभिसूचना विकसित कर इस प्रकार की घटना पर प्रभावी अंकुश लगाने के साथ-साथ प्रभावी, वैधानिक एवं निरोधात्मक कार्यवाही कर रहा है। साथ ही, जिलाधिकारी तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा क्षेत्र का भ्रमण कर थाने, ग्राम स्तर पर बैठक कर क्षेत्रवासियों को अवैध शराब का सेवन न करने तथा अवैध शराब कारोबारियों को चिन्हित कराने के लिए जागरूक किया जा रहा है। प्रवक्ता ने बताया कि सहारनपुर जनपद में जहरीली शराब के सेवन से हुई मृत्यु की घटना पर कड़ी कार्यवाही करते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक द्वारा नागल थाने के प्रभारी निरीक्षक, इसी थाने के 02 उप निरीक्षकों सहित 04 आरक्षियों को तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया गया है। इसी प्रकार गागलहेडी थाने में तैनात 01 उपनिरीक्षक तथा 02 आरक्षियों को भी तत्काल प्रभाव से निलम्बित कर दिया गया है।