गंठबंधन को हराना ज्यादा आसान होगा:हर्षवर्धन

 


नयी दिल्ली।  भाजपा नेतृत्व द्वारा चांदनी चौक के बजाय पूर्वी दिल्ली से लोकसभा चुनाव लड़ाने को लेकर डा. हर्षवर्धन ने कहा कि फिलहाल ऐसा नहीं होने जा रहा, लेकिन अगर सीट बदली तो भी जीत तय है। दिल्ली की चांदनी चौक लोकसभा सीट से सांसद डा हर्षवर्धन ने बताया, ‘आप और कांग्रेस ने चुनावी गठजोड़ की इच्छा जाहिर कर दी है। संभावित चुनावी तालमेल से साबित हो जायेगा कि मोदी सरकार की उपलब्धियों के प्रति विपक्ष का भय ही, गठबंधन की एकमात्र वजह है।’


डा हर्षवर्धन ने कहा कि फिलहाल ऐसा नहीं होने जा रहा, लेकिन अगर सीट बदली तो भी जीत तय है। वैसे भी मोदी सरकार की असाधारण उपलब्धियों ने जब धुर विरोधियों को मिलने पर मजबूर कर दिया हो, ऐसे में भाजपा का कोई भी उम्मीदवार किसी भी सीट से पार्टी की जीत सुनिश्चित करने के लिये आश्वस्त है। बतौर पर्यावरण और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री, देश और दिल्ली के लिये अपनी पांच असाधारण उपलब्धियों के सवाल पर डा. हर्षवर्धन ने कहा कि मौसम के पूर्वानुमान की विश्व में सर्वाधिक उन्नत तकनीक इस्तेमाल करने वाला, भारत दुनिया का चौथा देश हो गया है। 


उल्लेखनीय है  जबकि 2004 से 2014 तक संप्रग सरकार के दोनों कार्यकाल में सातों सीटों पर कांग्रेस काबिज रही। डा. हर्षवर्धन ने ‘आप कांग्रेस गठबंधन’ से भाजपा को नुकसान के चुनावी विश्लेषणों को सिरे से नकारते हुये कहा कि यह गठबंधन दिल्ली में भाजपा की राह आसान बनाकर सातों सीटों पर जीत सुनिश्चत करेगा।  उन्होंने इसे बेमेल गठबंधन करार देते हुये कहा कि कांग्रेस के भ्रष्टाचार को कोसते हुये दिल्ली की सत्ता तक पहुंचने वाले आप संयोजक अरविंद केजरीवाल के लिये, अब कांग्रेस की स्वीकार्यता, किसी मजबूरी का ही परिणाम हो सकती है। केजरीवाल और कांग्रेस, दोनों के लिये सियासी वजूद को बचाने की यह मजबूरी, इस चुनाव ने उजागर कर दी है।