जनता की सुविधा के लिये झटपट कनेक्षन हेतु वेब पोर्टल की शुरूआत श
सौभाग्य योजना में उत्कृश्ट कार्य करने वाले कार्मिक सम्मानित

लखनऊ, 07 मार्च। प्रदेश की जनता को बगैर किसी दौड़ भाग के आसानी से विद्युत कनेशन समयबद्ध तरीके से मिल जाये, इसके लिये आज ‘‘झटपट कनेक्षन’’ के नाम से एक वेब पोर्टल की शुरूआत ऊर्जा मंत्री  श्रीकान्त षर्मा ने की। षक्ति भवन में आयोजित एक समारोह में उन्होंने बताया कि पूर्व में विभिन्न स्थलों से नये संयोजन देने में विलम्ब से सम्बन्धित शकायतें प्राप्त होती रही हैं। इसे समाप्त करने हेतु जन-सामान्य को त्वरित गति से भ्रश्टाचार मुक्त नये संयोजन निर्गत करने की आनलाईन व्यवस्था बनायी गयी है। इस व्यवस्था के अन्तर्गत 1912 पर काॅल करके, आनलाईन पोर्टल पर स्वंय आवेदन कर के तथा सी.एस.सी. एवं सी.ई.जी. के माध्यम से कनेक्षन प्राप्त हो सकेगें। पोर्टल की विषेशता यह है कि सभी प्रकार के संयोजनों हेतु घर बैठे संयोजन प्राप्त करने की सुविधा है। उपभोक्ता प्रौसेसिंग षुल्क, ऐस्टीमेटेड शुल्क, आन लाइन भुगतान कर सकेगा साथ ही एस.एम.एस. से आवेदन की स्थिति की निरन्तर सूचना दी जायेगी। प्रत्येक स्तर पर समयबद्ध कार्यवाही का विभागीय स्तर पर कठोर अनुश्रवण किया जायेगा। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि कस्बो, नगर निगमों एवं टाउन एरिया की नयी कालोनियों में भी उपभोक्ता को आसानी से कनेक्षन मिलें इसके लिये भी अधिकारी योजना बनाये।

 प्रमुख सचिव ऊर्जा एवं उ.प्र. पावर कारपोरेषन अध्यक्ष ने बताया कि इस पोर्टल पर कनेक्षन मिलने की मानीटरिंग पावर कारपोरेशन के मुख्य अभियन्ता (वाणिज्य) करेंगे। उन्होेंने कहा कि उपभोक्ताओं को निष्चित समयावधि में विद्युत कनेशन मिल जाये इसमें यह पोर्टल बहुत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा।

ऊर्जा मंत्री श्रीकान्त शर्मा ने आज सौभाग्य योजना में उल्लेखनीय कार्य कर प्रदेष में निर्धारित लक्ष्यों को पूरा करने में दिये गये योगदान के लिये अधिकारियों एवं कर्मचारियों को सम्मानित किया। इस अवसर पर प्रमुख सचिव ऊर्जा एवं उ.प्र. पावर कारपोरेषन के अध्यक्ष आलोक कुमार तथा प्रबन्ध निदेषक अपर्णा यू. सहित अनेक अधिकारी उपस्थित थे।  

उत्तर प्रदेश ने सौभाग्य योजना के तहत कुल 76 लाख 44 हजार कनेक्शन के साथ 23 माह में कुल 97 लाख बिजली कनेक्शन देने का रिकॉर्ड बनाया है। यह देश में अब तक का सर्वाधिक आंकड़ा है। इसके लिये यूपी को सौभाग्य योजना के तहत सर्वाधिक कनेक्शन देने के लिए सम्मानित किया जा चुका है। केंद्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार आर.के. सिंह द्वारा प्रदेश के ऊर्जा मंत्री  श्रीकांत शर्मा एवं प्रमुख सचिव ऊर्जा एवं उ.प्र. पावर कारपोरेषन के अध्यक्ष आलोक कुमार को गुरुग्राम में ऊर्जा मंत्रालय द्वारा आयोजित राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के विद्युत मंत्रियों के सम्मेलन में यह पुरस्कार दिया था।

ऊर्जा मंत्री  श्रीकांत शर्मा ने इस अवसर पर कहा कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में ’‘आजाद भारत में पहली बार, ‘‘बिजली आई सबके द्वार’’ का लक्ष्य लेकर ऊर्जा विभाग ने पिछले 23 महीने में उत्तर प्रदेश के सभी 1 लाख 21 हजार मजरों में बिजली पहुंची थी। इसका श्रेय आमजन से मिले सहयोग और लाइनमैन से लेकर चेयरमैन तक के परिश्रम को जाता है। सभी के सहयोग के बिना यह कार्य संभव नहीं हो सकता था।

सौभाग्य योजना में उत्कृश्ठ कार्य के लिये निदेषक (वितरण) विजय कुमार, मध्यांचल के प्रबन्ध निदेषक संजय गोयल, पूर्वांचल के प्रबन्ध निदेशक, गोबिन्द राजू, आगरा के प्रबन्ध निदेशक एस.के. वर्मा, मेरठ के प्रबन्ध निदेषक असुतोश निरंजन, अधिषाशी निदेषक पी.पी. सिंह सहित 50 कार्मिकों जिसमें, अवर अभियन्ता, सहायक अभियन्ता, अधिषाशी अभियन्ता, अधीक्षण अभियन्ता, मुख्य अभियन्ता तथा निदेषक (तकनीकी) को प्रषस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार करके जन सहभागिता एवं जागरूकता बढ़ाने हेतु जनसम्पर्क अधिकारी के.के. सिंह ‘अखिलेष’ को भी सम्मानित किया गया। इस अवसर पर सौभाग्य योजना पर बनायी गयी काफी टेबिल बुक का विमोचन भी किया गया। प्रमुख सचिव ऊर्जा ने बताया कि इस बुक के माध्यम से योजना के प्रमुख बिन्दुओं को संकलित करके रखा गया है।