मतदाता वोट के महत्व को समझे और लोकतन्त्र को मजबूत बनाये
 

धनबल एवं बाहुबल को रोकना होगा

लखनऊ, 15 मार्च । लोकतन्त्र में सही व्यक्ति को जिताने के लिए मतदाताओं को जागरूक करंे यह कार्य केवल प्रशासनिक व्यवस्था से नहीं किया जा सकता इस के लिए सामाजिक स्तर पर भी प्रयास करना होगा, ये विचार मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल. वेंकटेश्वर लू ने क्षेत्रीय समाचार एकांश आकाशवाणी द्वारा आयोजित मीडिया कवरेज हेतु जिला संवाददाताओं की एक दिवसीय कार्यशाला में अपने सम्बोधन में कहे। उन्होंने कहा कि अनेक प्रयासों के बाद भी कई क्रिमिनल चुनाव लड़कर लोकसभा पहुँच रहे हैं। ये सब जागरूकता तथा कुशल प्रबन्धन की कमी के कारण हो रहा है, जब क्रिमिनल बूथ लेवल तक मतदाता को अपने क्रिया-कलापों से प्रभावित कर लेता है तो हम क्यों नहीं हमारा प्रयास सही व्यक्ति के जीतने के लिए धरातल बनाना है। हर मतदाता को जागरूक करें ताकि वह किसी प्रलोभन में आये बिना योग्य प्रत्याशी के पक्ष में मतदान करने लिए प्रेरित हो सके। उन्होंने कहा कि सूचना तन्त्र के माध्यम से हम प्रजातन्त्र को मजबूत कर सकते हैं। श्री लू ने कहा कि हम धर्म,न्याय समरसता एवं बन्धुत्व को बनाये रखने के लिए अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करें आज जाति, धर्म और क्षेत्रीयता के आधार पर मतदाताओं को भ्रमित किया जा रहा है। आज मेरा और तेरा में ही सारी समस्या है। इस सब का समाधान वोट में है जब तक प्रलोभन या स्वार्थ में रहकर हम वोट डालते रहेंगे तब तक न तो हमारा लोकतन्त्र मजबूत होगा और न ही हमारा विकास हो सकता है अतः सभी मतदाता वोट के महत्व को समझे और मतदान के दिन वोट डालकर लोकतन्त्र को मजबूत बनाये।

इस अवसर पर संयुक्त सीईओ अलका वर्मा ने ने बताया कि मतदाता टोलफ्री नम्बर-1950 अथवा वोटर हेल्पलाइन मे माध्यम से वोटर लिस्ट में अपना नाम जान सकते हैं। उन्होंने कहा कि माॅडल कोड आॅफ कन्डक्ट तथा निर्वाचन के समय प्रसारित एवं प्रकाशित होने वाले विज्ञापनों के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि बिना चुनाव आयोग के प्रमाणीकरण के किसी भी प्रकार का विज्ञापन प्रसारित एवं प्रकाशित नहीं होगा।

अपर निर्वाचन अधिकारी ब्रह्मदेव राम तिवारी ने कहा कि गंगा-जमुनी तहज़ीब से लोकतन्त्र के बीज फूटते हैं नैतिक एवं व्यापक मतदान हेतु मतदाता का जागरूक होना नितान्त आवश्यक है अतः मतदान से पूर्व बेहतर मतदान के लिए चर्चाएं होनी चाहिए। हमें धनबल एवं बाहुबल को रोकना है अतः अबाधित रूप से सार्वभौमिक मताधिकार के लिए प्रयास किये जाये यदि ऐसा नहीं होगा तो समानता, स्वतंत्रता एवं बन्धुत्व का नारा बेमानी है उन्होंने मतदाताओं का आह्वान किया कि वे स्वस्थ लोकतन्त्र के लिए समझदार एवं संवेदनशील व्यक्ति का चुनाव करें।

कार्यशाला में उपमहानिदेशक, आकाशवाणी एवं दूरदर्शन पी.पी. शुक्ला, क्षेत्रीय समाचार एकांश प्रमुख, दिलीप कुमार शुक्ल सहायक निदेशक एम. एस. यादव तथा कार्यशाला में आकाशवाणी व समस्त जिलोें के जिला संवाददाता मौजूद रहे।