नेत्रहीनों की छड़ी को किया आर्टीफिशियल इंटेलीजेन्स से लैस 
प्रतिभाशाली छात्र प्रियांशु को मिली विपणन तक आर्थिक मदद

लखनऊ, 7 मार्च। क्रिश्चियन कालेज के प्रतिभाशाली युवा विद्यार्थी प्रियांशु ने नेत्रहीनों की छड़ी को सूचना प्रौद्योगिकी से जोड़कर विकसित करते हुए ऐसा रूप दिया है जिससे नेत्रहीनों को ओर सुविधा मिलेगी। पर्यटन भवन गोमतीनगर में चले तीन दिवसीय कम्प्यूटर रोजगार मेला और आईटी एक्सपो डिकोडेक्स के समापन अवसर पर प्रियांश की इस परियोजना के बारे मे जान विस्तार देने और जरूरतमंदों तक पहुंचाने के लिए रोटरी क्लब लखनऊ के उप मण्डलाध्यक्ष अजय आनन्द ने व्यक्तिगत रूप से वित्तीय मदद करने का एलान किया। श्री आनन्द ने बताया कि असहाय समझे जाने वाले नेत्रहीनों के लिए छड़ी विकसित कर रहे प्रियांशु की सोच और प्रतिभा के वे कायल हो गये। वे प्रियांशु को जगह व आर्थिक मदद देकर उसकी छड़ी को मार्केटिंग के स्तर तक पहुंचाने तक सहायता देंगे। 

बीएससी प्रथम वर्ष के छात्र प्रियांशु ने बताया कि मेरी विकसित की छड़ी आग, पानी, गढढों और बिजली के झटकों से आगाह करने वाली है। इस फोल्डिंग छड़ी पर मात्र पांच से छह सौ रुपये की लागत आती है। अर्थिक मदद मिलने के एलान से मेरा उत्साह बढ़ा है। आनन्द सर ने मुझे निर्माण से लेक मार्केटिंग तक आर्थिक सहयोग करने को कहा है, उनका आभार। इस पर काम करते हुए मुझे नेशनल साइंस एग्जीबीशन में भी अवार्ड मिल चुका है। संयोजक बजहाइपर्स मारकाॅम के प्रमुख सुधीर वर्मा ने आयोजन प्रियांशु जैसी युवा प्रतिभाओं के लिए प्रोत्साहन मंच बनकर उभरा साथ ही नैस्काॅम के सहयोग से हमने युवाओं के लिए रोजगार और कॅरियर बनाने के अवसर पैदा किये और यहां आने वाली आम जनता भी ई-गवर्नेन्स के प्रति जागरूक हुई।