सरकार फिल्म इंडस्ट्री को प्रदेश में बढ़ावा देने हेतु तत्पर
उत्तर प्रदेश स्टेट फिल्म फेस्टिवल एवं सेमिनार का शुभारंभ सत्र संपन्न

लखनऊ, 09 मार्च। उत्तर प्रदेश के महिला कल्याण परिवार कल्याण मातृ एवं शिशु कल्याण एवं पर्यटन मंत्री  रीता बहुगुणा जोशी ने कहा कि फिल्म निर्माता गण केवल अपने लिए ही नहीं बल्कि समाज के लिए एक सपना देखा है इसी को पूरा करने के लिए पूरे जज्बे के साथ काम करते हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के साथ निरंतर खड़ी है तथा हर संभव सहयोग देने को तैयार है। उन्होंने फिल्म निर्माताओं से अनुरोध किया कि वे उत्तर प्रदेश में फिल्म शूटिंग कर फिल्मों का निर्माण करें। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में फिल्म उद्योग के लिए अनंत संभावनाएं हैं। उत्तर प्रदेश एक ऐसा राज्य है जहां हिंदी सिनेमा को देखने वालों की संख्या बहुत ज्यादा है।

    श्रीमती जोशी आज यहां इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित उत्तर प्रदेश स्टेट फिल्म फेस्टिवल एंड सेमिनार के शुभारंभ सत्र को संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि पर्यटन के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश काफी तेजी से बढ़ रहा है। उत्तर प्रदेश कलाकारों की भूमि फिल्म इंडस्ट्री के विकास के लिए उत्तर प्रदेश एक सुरक्षित राज्य है उन्होंने यह भी कहा कि ऐसा मेरा मानना है कि आगामी 5 वर्षों में उत्तर प्रदेश सिनेमा का एक हब बन जाएगा। भारतीय सिनेमा के इतिहास में उत्तर प्रदेश की महत्वपूर्ण भूमिका रही है इस प्रदेश में फिल्म उद्योग को कई ख्याति प्राप्त फिल्म निर्माता-निर्देशक कलाकार गीतकार संगीतकार तथा कथाकार एवं पटकथा कर दिए हैं।

  इस अवसर पर प्रमुख सचिव सूचना पर्यटन एवं फिल्म बंध के चेयरमैन अवनीश अवस्थी ने कहा कि वर्तमान सदी में फिल्म मनोरंजन ही नहीं बल्कि रोजगार सामाजिक एवं संस्कृति के विकास के लिए और भी ज्यादा सशक्त माध्यम है। उन्होंने कहा कि विगत वर्षों में फिल्मों के माध्यम से बड़ी संख्या में दर्शकों को मनोहारी दृश्य तथा संस्कृति से अवगत कराकर इस सशक्त माध्यम में पर्यटन को प्रोत्साहित करने में प्रमुख भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि यह शुभारंभ स्टेशन विशेष रूप से पर्यटन से जुड़ा हुआ है। आज सिनेमा एक महत्वपूर्ण आर्थिक गतिविधि का रूप धारण कर चुका है। वर्तमान समय में फिल्म और पर्यटन एक साथ चलकर प्रदेश के विकास में अत्यंत सहायक हो सकते हैं।

     इस अवसर पर लिरिक्स एंड सिंगर  मनोज मुंतशिर, स्क्रिप्ट राइटर  विपुल रावल, फिल्म डायरेक्टर  अनिल शर्मा एवं निशित चंद्रा तथा फिल्म श्री प्रोड्यूसर हेमचंद्र भगनानी ने भी अपने विचार व्यक्त किए