विधायकों के दूरभाषों के देेख-रेख के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया जायेगा: दीक्षित
लखनऊ, 6 मार्च । उत्तर प्रदेश विधान सभा के मा0 अध्यक्ष  हृदय नारायण दीक्षित ने मा0 विधायकों को बी.एस.एन.एल. द्वारा उपलब्ध कराये गए सी.यू.जी. एवं लैण्डलाइन दूरभाषों की एवं अन्य समस्याओं को दूर करने हेतु नोडल अधिकारी नियुक्त किया जायेगा। उनके द्वारा विधायकों के दूरभाष की समस्याओं पर त्वरित कार्यवाही के साथ समाधान किया जायेगा। यह निर्देश विधान सभा अध्यक्ष ने आज विधान भवन में बी.एस.एन0एल. के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक बैठक में दिये है। श्री दीक्षित नेविधायकों के दूरभाषों के देेख-रेख के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया जायेगा: दीक्षित अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि ऐसे विधायकों जिनके निर्वाचन क्षेत्र में उनके द्वारा इंगित स्थानों पर दूरभाष सुविधा उपलब्ध नहीं हो पाई है। वहां विधायकों से अन्य वैकल्पिक स्थानों के बारे में जानकारी प्राप्त कर यथाशीघ्र दूरभाष लगाए जाने की व्यवस्था की जाए।

मा0 विधायको के बिल जमा होने के बाद भी विच्छेदन की घटनाओं को रोकने के लिए मुख्य महाप्रबन्ध द्वारा ऐसा प्रबन्धन किया जायेगा जिससे भविष्य में इस प्रकार की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो सके। बैठक मेंविधायकों के दूरभाषों के देेख-रेख के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया जायेगा: दीक्षित  के अधिकारियों ने मा0 अध्यक्ष, विधान सभा को आश्वस्त किया कि विधायक निवासों दारूलशफा, ओ0सी0आर0 एवं राॅयल होटल, लखनऊ में बाधित हो रही टेलीफोन व्यवस्था को शीघ्र ही दुरूस्त किया जाएगा। मेट्रो का कार्य पूरा हो चुका है। मेट्रो द्वारा मार्च के अंत तक ध्वस्त केविल को बदलकर नये केविल बिछाने के लिए आश्वस्त किया है। अध्यक्ष, विधान सभा ने बिलों में अत्यधिक हो रही त्रुटियों को दूर करने और बिलों को प्रेषित करने के पहले उनका उच्च स्तरीय परीक्षण कराकर प्रेषित किये जाने का भी निर्देश दिये है। विधायकों के दूरभाषों के देेख-रेख के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किया जायेगा: दीक्षित के अधिकारियों ने मा0 विधायकों की टेलीफोन बिलों का परीक्षण सेल द्वारा कराये जाने हेतु आश्वस्त किया। 

उन्नाव जनपद की भगवंतनगर व पुरवा तहसीलों में नेटवर्क की समस्या पर भी विचार विमर्श हुआ। मुख्य महाप्रबन्धक द्वारा बताया गया कि टावर्स की कमी के कारण क्षेत्र में नेटवर्क की समस्या है। इसके लिए अतिरिक्त टावर्स लगाये जाने के निदेश दिये गये है। शीघ्र समस्या का समाधान होगा।

बैठक में  सतीश कुमार, मुख्य महाप्रबन्धक (पूर्वी परिमण्डल), नीरज वर्मा, प्रधान महाप्रबन्धक (एन.डब्ल्यू.ओ.पी.एफ.ए.) यू.वी. तिवारी, महाप्रबन्धक (वित्त), के.के. सिंह, महाप्रबन्धक, वी.के. वर्मा, उपमहाप्रबन्धक,  विशाल पाण्डेय, उपमण्डल अधिकारी (नोडल अधिकारी), विधान भवन व अन्य अधिकारियों के साथ उ0प्र0 विधान सभा के प्रमुख सचिव,  प्रदीप दुबे भी उपस्थित रहे।