भाजपा ने भी मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए अखिलेश और मायावती की शिकायत की

लखनऊ,। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा अध्यक्ष मायावती ने जहां भाजपा की चुनाव आयोग से शिकायत की है, तो वहीं भाजपा ने भी मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए अखिलेश और मायावती की शिकायत की है। 

भारतीय जनता पार्टी ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव व बसपा सुप्रीमो मायावती द्वारा चुनाव प्रचार समाप्त होने के बावजूद चुनाव प्रचार करने की शिकायत चुनाव आयोग से की। जेपीएस राठौर ने चुनाव आयोग से लिखित शिकायत करते हुए कहा कहा कि आखिरी चरण का मतदान 19 मई' 2019 को होना है तथा आखिरी चरण के मतदान का प्रचार-प्रसार 17 मई' 2019 को सायं 06 बजे ही समाप्त हो गया था, लेकिन 17 मई' 2019 को ही रात्रि 08.22 बजे ट्वीट करके  मतदाताओं को प्रभावित करने का काम किया गया। जो  चुनाव आयोग के नियमों और आदर्श आचार संहिता का खुला उल्लंघन है। 

श्री राठौर ने कहा कि अंतिम चरण के होने वाले मतदान दिनाँक 19 मई' 2019 का चुनाव प्रचार का समय 17 मई' 2019 की शाम 06 बजे ही समाप्त हो गया फिर भी 18 मई' 2019 को सुबह 10.24 बजे बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा दो ट्वीट किये गये और दोनों ही ट्वीट मतदान को प्रभावित करने वाले हैं तथा चुनाव प्रचार की श्रेणी में आते हैं।

श्री राठौर ने कहा की अखिलेश यादव और उनकी पार्टी ना कभी बाबा साहब आम्बेडकर को मानते थे और ना ही बाबा साहब के बनाए हुए संविधान को ही मानते थे, लेकिन विडंबना यह है कि बसपा सुप्रीमो मायावती भीम बाबा साहब के बनाए हुए संविधान की अवहेलना करते हुए संवैधानिक संस्थाओं की अवहेलना कर रही है। लोकसभा चुनाव के दौरान यदि देखा जाए तो मायावती ने हर बार चुनाव आयोग की मंशा के विरुद्ध ही आचरण किया है।

भारतीय जनता पार्टी ने चुनाव आयोग से मांग करते हुए कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव एवं बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती के विरुद्ध संज्ञान लेकर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की कठोरतम कार्यवाही अमल में लाई जाए तथा दोनों राजनीतिक दलों पर भी कार्यवाही सुनिश्चित की जाए,तभी सभी राजनीतिक दलों को संदेश जाएगा और ऐसे प्रकरणों की पुनरावृत्ति नहीं होगी।