कानपुर में देर रात पहुंच सकता है फानी चक्रवात, बारिश के साथ चलेंगी तेज हवाएं

 


 


कानपुर, ओडिशा में तबाही मचा रहा फानी चक्रवात का आंशिक असर बीते तीन दिनों से कानपुर में पड़ रहा है। इसकी वजह से तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। हालांकि शुक्रवार की अपेक्षा शनिवार को तापमान कुछ अधिक रहा। मौसम विभाग का कहना है कि देर रात कानपुर में फानी चक्रवात पहुंच सकता है। ऐसे में बारिश के साथ तेज हवाएं चलेंगी।  मौसम विभाग के मुताबिक ओडिशा पहुंच चुका फानी चक्रवात शनिवार देर रात तक जनपद में पहुंचने के आसार हैं। हल्की हवाएं तो तीन दिनों से चल रही हैं पर इसका असली असर आंधी के रुप में देखने को मिलेगा और हल्की बारिश भी होगी। इससे एक बार फिर तापमान में गिरावट आएगी। इसी को देखते हुए मौसम विभाग ने यलो अलर्ट जारी किया है तो नगर निगम ने 150 जर्जर भवन खाली कराने का आदेश दिया है। कंट्रोल रुम भी बना दिया है। आपदा में राहत व बचाव की तैयारी भी है। चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डॉ. नौशाद खान ने शनिवार को बताया कि तीन दिनों से बंगाल की खाड़ी से उठे फानी चक्रवात का असर उत्तर प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में पड़ने लगा है। इस चक्रवात से कानपुर सहित आस-पास के क्षेत्रों में मौसम में बदलाव आ रहा है। इसके साथ ही आने वाले दिनों में पांच से छह डिग्री सेल्सियस पारा गिर सकता है और हालांकि आज दो डिग्री पारा तेज धूप से बढ़ गया है। 
डॉ. खान ने बताया कि इस चक्रवात का असर कानपुर में कमजोर रहेगा। यहां 20 से 30 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चलने के आसार हैं। जिसके कारण आर्द्रता भी सुबह और दोपहर की 80 से 90 फीसदी हो सकती है। इसके साथ ही 10 से 20 मिमी. बारिश भी हो सकती है। शनिवार को अधिकतम तापमान 39 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 24.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इसके साथ ही आर्द्रता में भी बढ़ोत्तरी हो गयी। सुबह की आर्द्रता 60 फीसदी और दोपहर की 21 फीसदी दर्ज की गयी है। हवाओं की दिशाएं उत्तरी पश्चिमी हो गयी हैं, जिससे फानी का असर पहले के अनुमान के मुताबिक कम रहने की संभावना है। इन हवाओं की आज रफ्तार नौ किलोमीटर प्रति घंटा रही जो किसी भी समय बढ़ सकती हैं। बताया कि आगामी दो दिनों तक निम्नवायुदाब के बने क्षेत्र व चक्रवात से स्थानीय स्तर पर बारिश के आसार बने हुए हैं।  कलेक्ट्रेट में बना कंट्रोल रुम  फानी चक्रवात से निपटने के लिए जिला प्रशासन ने जनपद में पुख्ता इंतजामात कर लिये हैं। इसके लिए कलेक्ट्रेट में कंट्रोल रुप का भी गठन कर दिया गया है। जिसमें पुलिस, आपदा प्रबंधन, केस्को, नगर निगम, पीडब्ल्यूडी आदि विभागों में 10-10 टीमें गठित की गई हैं। यह पांच मई तक 24 घंटे काम करेगा। इसमें दो शिफ्ट में छह कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है। एडीएम वित्त व राजस्व वीरेंद्र पांडेय ने बताया कि धर्मशाला व रैन बसेरे तैयार करने को कहा है। अस्पतालों में बेड सुरक्षित किए गए हैं। बिजली संकट आने पर केस्को के अधिकारियों को सतर्क रहने को कहा गया है। इसके साथ ही पेड़ आदि हटवाने के लिए वन विभाग व नगर निगम को मुस्तैद रहने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं जिलाधिकारी विजय विश्वास पंत ने शहरवासियों से अपील की है कि सोशल मीडिया की अफवाहों से सावधान रहें।